किराया लेने आऊंगा भाभी

मैं अपने ऑफिस जा रहा था सुबह के 9:30 बज रहे थे और मैं अपने ऑफिस पहुंचने ही वाला था की मेरे फोन पर फोन आने लगा मैंने जब फोन देखा तो भैया मुझे फोन कर रहे थे भैया ने कहा कि अजीत तुम कहां पर हो। मैंने भैया से कहा भैया मैं तो ऑफिस पहुंचने वाला हूं मैंने अपनी कार को सड़क के किनारे खड़ा किया और भैया से बात करने लगा भैया मुझे कहने लगे कि तुम जब ऑफिस से घर लौटोगे तो मुझसे मिलते हुए जाना। मैंने भैया से कहा ठीक है मैं आपसे मिलता हुआ जाऊंगा और मैंने उसके बाद फोन रख दिया मैं अपने ऑफिस पहुंच चुका था। मैं जब अपने ऑफिस पहुंचा तो मैंने ऑफिस के गार्ड को कार की चाबी दी और उसने गाड़ी पार्क कर दी मैं अब लिफ्ट से चौथे माले पर अपने ऑफिस में पहुंचा मैं जैसे ही ऑफिस के अंदर पहुंचा तो उसके कुछ देर बाद मुझे हमारे बॉस ने बुला लिया। जब हमारे बॉस ने मुझे बुलाया तो वह मुझसे बात करने लगे और कहने लगे कि अजीत मैं एक नया प्रोजेक्ट पर काम कर रहा हूं मैं चाहता हूं कि तुम उसमें मेरी मदद करो।
मैंने उन्हें कहा सर ठीक है और उसके बाद मैं अपने कैबिन में लौट गया शाम हो चुकी थी और मैं अब अपने घर वापस लौट रहा था तो मुझे रास्ते में ध्यान आया कि मुझे भैया से मिलना था मैं भैया से मिलने के लिए अब उनके घर पर चला गया। भैया और भाभी अलग रहते हैं पहले हम लोग साथ में ही रहा करते थे लेकिन अब हम सब लोग अलग रहते हैं पापा और मम्मी मेरे साथ रहते हैं और वह कभी कबार भैया के पास रहने के लिए चले जाया करते हैं। मैं जब भैया के घर पहुंचा तो मैंने उनके घर की बेल बजाई उन्होंने दरवाजा खोलो वह घर पर ही थे उन्होंने मुझे अंदर आने के लिए कहा। मैं सोफे पर बैठा तो भाभी मेरे लिए पानी ले आई और थोड़ी देर बाद उन्होंने मेरे लिए चाय भी बना दी मैंने भैया से कहा भैया क्या कोई जरूरी काम था तो भैया कहने लगे कि अजीत मुझे तुमसे कुछ जरूरी बात करनी थी। भैया ने मुझे बताया कि जहां हमारा पुराना घर है वहां पर एक कांपलेक्स बनने वाला है और उस घर के हमें काफी अच्छे पैसे मिल जाएंगे।

sexkhania,
,hindisexkhania
,माँ बहन की चुदाई की कहानी
,hot kahania
,sexy jahani
,sex kahania
,नॉनवेज स्टोरी
,मां बहन की च**** की कहानी
,सेक्सी खाणीअ
,साली की सील तोड़ी
,साली की सील तोड़ी
,चाची की सील तोड़ी
,sexkahania
,मुझे खूब चोदो
,पड़ोस वाली आंटी की च****

अब ना तो मैं उस घर में रह रहा था और ना ही भैया उस घर में रह रहे थे हम लोगों ने वह घर काफी समय से किराए पर दिया हुआ है। मैंने भैया को कहा भैया लेकिन आपको यह बात किसने बताई तो वह मुझे कहने लगे कि मुझे यह बात मेरे दोस्त ने बताई है उसका घर भी वहीं पास में है तो उसने मुझे इस बारे में बताया। मैंने भैया से कहा भैया वैसे भी वह घर काफी पुराना हो चुका है मुझे लगता है कि उसे बेच ही देना चाहिए क्योंकि उसे दोबारा से ठीक कराने में हमारा काफी पैसा लग जाएगा। मैंने भैया से इस बात के लिए कह दिया कि यदि वह घर बेच कर अच्छे पैसे मिल जाते हैं तो भला उसमें मुझे क्या परेशानी होगी और मैं इस बारे में पापा से भी बात कर लूंगा। मैं भैया के साथ काफी देर तक बैठा रहा और मैं जब घर लौटा तो मैंने इस बारे में पापा से बात कर ली थी पापा ने भी कहा कि हां बेटा उस घर को अब तुम बेच दो क्योंकि मुझे नहीं लगता कि तुम लोग वहां पर रहने वाले हो और वह काफी पुराना भी हो चुका है। वह घर हमारे दादा जी ने बनवाया था और वहां पर काफी भीड़भाड़ हो गई थी जिस वजह से हम लोग वहां पर नहीं रहते हैं और हम लोगों ने अब उस घर को बेचने का फैसला कर लिया था। कुछ समय बाद भैया ने वह घर बिकवा दिया और उसके बाद वह घर पर आए और जब वह घर पर आए तो उन्होंने पापा को चेक पकड़ाते हुए कहा कि यह आप रख लीजिए। पापा ने कहा कि बेटा जब यह पैसे मेरे अकाउंट में आ जाएंगे तो मैं तुम दोनों का आधा-आधा हिस्से में वह पैसे दे दूंगा। भैया को भी इससे कोई आपत्ति नहीं थी और थोड़े ही दिनों बाद पापा के अकाउंट में पैसे आ चुके थे पापा ने आधे पैसे मुझे दे दिए थे और आधे भैया को। मैंने सोचा कि उन पैसों से मैं एक नया घर खरीद लेता हूं मैं सिर्फ इन्वेस्टमेंट के तौर पर घर खरीदना चाहता था और मैंने अपने एक दोस्त जो कि प्रॉपर्टी का ही काम करता है उससे मैंने मिलने की सोची। मैं जब उससे मिलने के लिए उसके ऑफिस में गया तो वह अपने ऑफिस में ही था और मैंने उससे बात की मैंने उससे कहा कि मुझे एक घर खरीदना है तो उसने मुझसे कहा कि मैं तुम्हें अभी घर दिखा देता हूं।
वह मुझे अपने साथ ले गया और उसने मुझे काफी घर दिखाये उस दिन मेरी ऑफिस की छुट्टी थी इसलिए मैं उसके साथ ही था और जब मैं घर वापस लौटा तो रात के वक्त उसने मुझे फोन किया और कहा कि अजीत क्या तुम्हें कोई घर पसंद आया। मैंने उसे कहा मुझे तुम कुछ दिनों का टाइम दो मैं अगले हफ्ते पापा को अपने साथ ले आता हूं पापा को मैं एक बार घर दिखा देता हूं उसके बाद जैसा भी होगा मैं तुम्हें बता दूंगा। वह कहने लगा ठीक है तुम्हें जैसा भी ठीक लगे तुम मुझे बता देना अगले ही हफ्ते मैं पापा को अपने साथ ले गया और मैंने पापा को घर दिखाया तो पापा ने एक घर फाइनल कर लिया और कहा कि यह मुझे ठीक लगा। अब मैंने उसे कुछ पैसे दे दिए थे और मैंने उसे कहा मैं तुम्हें कुछ दिनों बाद घर के पूरे पैसे दे दूंगा तो वह कहने लगा ठीक है तुम कुछ दिनों बाद मुझे घर के पूरे पैसे दे देना। थोड़े ही दिनों बाद मैंने घर के पूरे पैसे उसे दे दिए अब मैं वह प्रॉपर्टी खरीद चुका था और घर खरीदने के बाद कुछ समय तक तो वह खाली रहा लेकिन फिर एक दिन मेरे साथ ऑफिस में काम करने वाले मेरे एक व्यक्ति ने कहा कि मेरे एक दोस्त हैं उनको घर किराए पर चाहिए था। मैंने उनसे पूछा कि वह कहां रहते हैं तो उन्होंने मुझे बताया कि वह इंदौर में रहते हैं लेकिन कुछ समय पहले उनका ट्रांसफर दिल्ली में हुआ है तो मैंने उन्हें कहा ठीक है तुम उन्हें कल मुझसे मिलवा देना।
अगले दिन उन्होंने मुझे संजय से मिलवाया जब मैं संजय से मिला तो मुझे संजय काफी अच्छे लगे और मैंने उन्हें घर दिखाया उन्हें घर भी पसंद आ चुका था और उन्होंने कहा कि मैं कुछ समय बाद ही यहां पर सामान शिफ्ट कर दूंगा। उन्होंने कुछ समय बाद घर का सामान शिफ्ट करवा दिया। संजय घर पर सामान रखवा चुके थे और संजय को घर में रहते हुए एक महीने से ऊपर हो चुका था। जब मैं संजय के घर पर किराया लेने के लिए गया तो संजय घर पर नहीं थे उस दिन संजय की पत्नी घर पर थी। उन्होंने मुझे बैठने के लिए कहा मैं उनके घर में बैठ गया मेरी नजर संजय की पत्नी पर थी। मैंने उन्हें कहा संजय वापस कब लौटने वाले हैं? वह मुझे कहने लगी वह कुछ दिनों के लिए इंदौर गए हुए हैं बस कुछ दिनों बाद वह लौट आएंगे। उन्होंने मेरे लिए चाय बनाई वह मेरे साथ बैठ गई मैंने उन्हें कहा भाभी जी यदि मैं आपसे आपका नाम पूछूं तो आपको बुरा तो नहीं लगेगा। वह कहने लगी नहीं इसमें बुरा लगने की क्या बात है उन्होंने मुझे अपना नाम बताया उनका नाम कविता है। कविता भाभी से मैं बात कर रहा था थोड़े ही देर बाद वह मुझसे खुलकर बात करने लगी। मैंने उनकी सुंदरता की तारीफ की उनकी पतली कमर को देखकर में बहुत ही ज्यादा उत्तेजित हो चुका था मैंने कहा आप बहुत ही ज्यादा सुंदर दिखती हैं। वह अपने बेडरूम की तरफ जा रही थी मैंने उनकी पतली कमर को अपने हाथों से पकड़ लिया मैंने उन्हें अपनी बाहों में ले लिया उनकी गांड मेरे लंड से टकराने लगी थी। वह मुझे कहने लगी मुझे छोड़ दीजिए। मैंने कहा मैं आपको चोदना चाहता हूं, मैंने उन्हें कहा यह किराया आप अपने पास ही रहने लिजिए लेकिन आप मुझे अपने बदन की गर्मी को महसूस करने दीजिए।
उन्होंने भी अपने पास किराया रख लिया मैंने उनके ब्लाउज को खोला तो उनके ब्लाउज को खोलते हुए मैंने उनकी ब्रा के हुक को भी खोल दिया। उसके बाद मैंने उनके स्तनों को चूसना शुरू किया उनके स्तनों को चूसकर मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था काफी देर तक उनके स्तनों को मैं ऐसे ही चूसता रहा। वह इतनी ज्यादा गरम हो चुकी थी कि अपने आपको बिल्कुल नहीं रोक पा रही थी उन्होंने अपने पैरों को खोलते हुए अपनी साडी को ऊपर करना शुरू किया मैंने भी उनकी काले रंग की पैंटी को उतार दिया। उसके बाद जब मैंने अपने मोटे लंड को उनकी चूत के अंदर डालना शुरू किया तो मुझे अच्छा लगने लगा मैंने अपने मोटे लंड को उनकी चूत के अंदर प्रवेश करवा दिया था जिसके बाद मै उन्हें बड़ी तेजी से धक्के मारने लगा। भाभी अपनी तेज आवाज मे सिसकिया लेती जिससे कि मेरे अंदर की गर्मी को वह और भी ज्यादा बढ़ा देती।
मेरे लंड और उनकी चूत के रगडना से हम लोग ज्यादा देर तक सेक्स का आनंद ना ले सके मेरा वीर्य बाहर की तरफ गिरने लगा। मेरा वीर्य बाहर गिर चुका था मैंने अपने लंड को उनकी चूत से बाहर निकाला तो उनकी चूत के अंदर मैंने अपने वीर्य को गिरा दिया उसके बाद मैंने अपने लंड को उनकी गांड में डालने की कोशिश की लेकिन मेरा लंड उनकी गांड मे नही घुस रहा था। वह मुझे कहने लगी अजीत जी रहने दीजिए कभी और आप मेरी गांड मार लेना लेकिन मुझे तो उनकी गांड मारनी थी। मैने लंड को गांड मे घुसा दिया वह बहुत तेजी से चिल्लाई मैं उन्हें इतनी तेज गति से धक्के मारने लगा वह अपनी तेज आवाज में सिसकिया ले रही थी जिसके बाद से मैं उन्हें इतनी तेजी से धक्के मारता की उनकी गांड के अंदर बाहर मेरा लंड होता जिससे कि मुझे उन्हें धक्के मारने में बड़ा मजा आता। उनकी गांड के अंदर से इतनी ज्यादा गर्मी बाहर निकल रही थी और वह मुझसे अपनी चूतड़ों को टकरा रही थी जिसके बाद मेरे लंड से वीर्य बाहर निकलने लगा था कुछ ही क्षणों बाद मेरा वीर्य बाहर गिर गया। मैंने अपने वीर्य को भाभी की गांड के अंदर गिरा दिया। वह मुझे कहने लगी आप ही किराया लेने के लिए आते रहिएगा। मैंने उन्हें कहा मैं तो हमेशा आपसे किराया लेने के लिए आता रहूंगा।